Upcoming Gujarat Event 'February 2020' | Uttarkashi Retreat 'March 2020'




Excerpts in General



We Want Security


There is the desire for security. And one can understand this desire to be secure when you meet a wild animal, a snake; or you watch when you cross the road. But there is no other form of security. Really,if you look at it, there is no other form. You would like to have security with your wife, children, neighbor, your relations—if you have relations—but you don't have it. You may have your mother, you may have your father, but you are not related, you are completely isolated— we will go into that.

हम सुरक्षा चाहते हैं


हममें सुरक्षण की इच्छा रहती है | आप इस इच्छा को तब समझ सकते हैं जब आपका सामना किसी वन्य पशु या सर्प से हो जाता है या सड़क पार करते हुए जब आप एकदम चौकस हो जाते हैं | परंतु सुरक्षा का कोई अन्य स्वरुप नहीं होता | आप अपनी पत्नी के साथ, बच्चों के साथ संबंधों में -- यदि आपके संबंध है तो -- सुरक्षा पाना चाहते हैं, परंतु आपको वह मिल नहीं पाती | आपके माता या पिता आपके साथ हो सकते हैं परंतु साथ होते हुए भी आप उनके साथ नहीं होते, आप पूरी तरह अकेले होते हैं |

Read more >>

What you are, the world is.


What you are, the world is. So your problem is the world's problem. Surely, this is a simple and basic fact, is it not? In our relationship with the one or the many we seem somehow to overlook this point all the time.

जैसे आप होते है वैसा ही संसार हो जाता है


जैसे आप होते है वैसा ही संसार हो जाता है | इसीलिए आपकी समस्या संसार की समस्या बन जाती है | निश्चित रूप से यह एक सरल और मौलिक तथ्य है, है न? परंतु किसी एक के साथ या अन्य अनेकों के साथ अपने संबंधों में हम हमेशा किसी न किसी तरह इस मर्म को उपेक्षित करते है |

Read more >>

Why Do We Want to Change?


First of all, why do we want to change what is, or bring about a transformation? Why? Because what we are dissatisfies Us; it creates conflict, disturbance; and disliking that state, we want something better, something nobler, more idealis-tic. So, we desire transformation because there is pain, discomfort, conflict.

हम परिवर्तन करना क्यों चाहते है?


हम 'जो है' उसे बदलना या उसका रूपांतरण करना क्यों चाहता है? क्यों? क्योंकि हम जो है, वह हम असंतुष्ट करता है इससे द्वंद्व और विक्षोभ उत्पन्न होता है, और इस स्थिती को नापसंद करते हुए हम कुछ बेहतर, कुछ श्रेष्टतर, कुछ अधिक आदर्शपूर्ण स्थिती चाहते है | अब क्योंकि 'जो है' में पीड़ा है, बेचैनी है, द्वंद्व है, अतः हम परिवर्तन चाहते है |

Read more >>

Thought Seeks Security


Thought is the very essence of security, and that is what the most bourgeois mind wants—security, security at every level! To bring about a total change of the human consciousness, thought must function at one level and must not function at another level.

विचार सुरक्षा चाहता है


विचार तो सुरक्षा का अपरिहार्य लक्षण है और पुरातनवादी मानसिकता वाले लोग यही चाहता है -- सुरक्षा और वह भी हरएक स्तर पर | मानव चेतना में संपूर्ण परिवर्तन लाने के लिए विचार एक स्तर पर अपना कार्यकलाप करे परंतु अन्य स्तर पर नहीं |

Read more >>    top of page ↑

Ignorance Is Lack of Self-Knowledge


Ignorance is lack of knowledge of the ways of the self, and this ignorance cannot be dissipated by superficial activities and reforms; it can be dissipated by one's constant awareness of the movements and responses of the self in all its relationships.

आत्म परिचय का अभाव ही अज्ञान है


अपने अहं की गतिविधियों से अनभिज्ञ होना ही अज्ञान है | यह अज्ञान सतही कार्यकलापों और सुधारों से दूर नहीं किया जा सकता है | इसे तो अहं के सभी संबंधों में उसकी गतिविधियों और प्रतिक्रियाओं के प्रति अनवरत सजगता द्वारा ही दूर जा सकता है |

Read more >>    top of page ↑


1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 | Next