J. Krishnamurti's Teachings Online in Indian Languages (Hindi, Punjabi, Gujarati, Marathi, Bengali etc.)







हिंसा के माहौल में हमारी ज़िम्मेदारी

कृष्णमूर्ति अध्ययन शिविर : 1 - 4 दिसम्बर 2016 कृष्णमूर्ति स्टडी सेंटर, वाराणसी
‘‘क्या आप हिंसा के चेहरे को साफ और स्पष्ट रूप से देख सकते हैं - हिंसा का चेहरा जो न केवल आपके बाहर बल्कि भीतर भी है ? जिसका अर्थ होगा कि आप पूरी तरह से हिंसा से मुक्त हैं क्योंकि आपने किसी विचारधारा को नहीं थाम रखा है, जिसके जरिये आपको हिंसा से छुटकारा मिलने जा रहा है। इसके लिए बहुत गहरे ध्यान की आवश्यकता है, न कि आपकी शाब्दिक सहमति या असहमति मात्र की।’’ - जे. कृष्णमूर्ति, ज्ञात से मुक्ति


Read more >>


old people are fidgety


Question: You say old people are fidgety and bite their nails. Have you not marked younger people also doing these things? Then how is it that the poor old people who have many difficulties are pointedly mentioned as if they are fit for nothing?

बड़े व्याकुल मन के होते हैं


प्रश्न : आप कहते हैं कि बड़े व्याकुल मन के होते हैं और अपने नाखून कुतरते रहते हैं | क्या आप कभी इस पर ध्यान नहीं दिया कि युवा भी यह सब करते हैं? फिर विशेष रूप से बड़ों को लक्ष्य कर ऐसा क्यों कहा जाता है जबकि उन्हें कई तरह कि कठिनाइयों से जूझना होता है, उन्हें बेकार समझा जाता है?

Read more >>

Ignorance Is Lack of Self-Knowledge


Ignorance is lack of knowledge of the ways of the self, and this ignorance cannot be dissipated by superficial activities and reforms; it can be dissipated by one's constant awareness of the movements and responses of the self in all its relationships.

आत्म परिचय का अभाव ही अज्ञान है


अपने अहं की गतिविधियों से अनभिज्ञ होना ही अज्ञान है | यह अज्ञान सतही कार्यकलापों और सुधारों से दूर नहीं किया जा सकता है | इसे तो अहं के सभी संबंधों में उसकी गतिविधियों और प्रतिक्रियाओं के प्रति अनवरत सजगता द्वारा ही दूर जा सकता है |

Read more >>

Why Do We Want to Change?


First of all, why do we want to change what is, or bring about a transformation? Why? Because what we are dissatisfies Us; it creates conflict, disturbance; and disliking that state, we want something better, something nobler, more idealis-tic. So, we desire transformation because there is pain, discomfort, conflict.

हम परिवर्तन करना क्यों चाहते है?


हम 'जो है' उसे बदलना या उसका रूपांतरण करना क्यों चाहता है? क्यों? क्योंकि हम जो है, वह हम असंतुष्ट करता है इससे द्वंद्व और विक्षोभ उत्पन्न होता है, और इस स्थिती को नापसंद करते हुए हम कुछ बेहतर, कुछ श्रेष्टतर, कुछ अधिक आदर्शपूर्ण स्थिती चाहते है | अब क्योंकि 'जो है' में पीड़ा है, बेचैनी है, द्वंद्व है, अतः हम परिवर्तन चाहते है |

Read more >>    top of page ↑