J. Krishnamurti's Teachings Online in Indian Languages (Hindi, Punjabi, Gujarati, Marathi, Bengali etc.)







हिंसा के माहौल में हमारी ज़िम्मेदारी

कृष्णमूर्ति अध्ययन शिविर : 1 - 4 दिसम्बर 2016 कृष्णमूर्ति स्टडी सेंटर, वाराणसी
‘‘क्या आप हिंसा के चेहरे को साफ और स्पष्ट रूप से देख सकते हैं - हिंसा का चेहरा जो न केवल आपके बाहर बल्कि भीतर भी है ? जिसका अर्थ होगा कि आप पूरी तरह से हिंसा से मुक्त हैं क्योंकि आपने किसी विचारधारा को नहीं थाम रखा है, जिसके जरिये आपको हिंसा से छुटकारा मिलने जा रहा है। इसके लिए बहुत गहरे ध्यान की आवश्यकता है, न कि आपकी शाब्दिक सहमति या असहमति मात्र की।’’ - जे. कृष्णमूर्ति, ज्ञात से मुक्ति


Read more >>


The Brain


We have to consider together whether the brain, which is now only operating partially, has the capacity to function wholly, completely. Now we are only,using a part of it, which one can observe for oneself. One can see that specialization, which may be necessary, brings about the functioning of only a part of the brain. If one is a scientist, specializing in that subject, naturally only one part of the brain is functioning; if one is a mathematician it is the same. In the modern world one has to specialize, and we are asking whether, even so, it is possible to allow the brain to operate wholly, completely.

मस्तिष्क


हमें साथ-साथ विचार-विमर्श करना है कि इस समय आंशिक रूप से कार्य कर पा रहे मस्तिष्क में क्या समग्र रूप से, संपूर्ण रूप से कार्य करने की क्षमता है | इस समय हम उसके केवल एक अंश का ही उपयोग कर रहे हैं, यह हम स्वयं देख सकते हैं | विशेषज्ञता भले ही आवश्यक हो, पर उससे मस्तिष्क आंशिक रूप से कार्य करने लगता है यह बात कोई भी देख सकता है | यदि कोई वैज्ञानिक है और उसने किसी विषय का विशेषज्ञता प्राप्त की है तो स्वभावतः उसके मस्तिष्क का एक अंश ही कार्यरत रहता है | यदि कोई गणितज्ञ है तो उसके बारे में भी ठीक ऐसा ही होगा | आधुनिक विश्व में इस प्रकार की विशेषज्ञता आवश्यक हो गयी है, और हम पूछ रहे हैं की क्या ऐसी स्थिति में भी मस्तिष्क को समग्र रूप से, पूर्ण रूप से कार्य करने देना संभव है |

Read more >>

To Think We Own a Human Being Makes Us Feel Important


Jealousy is one of the ways of holding the man or the woman, is it not? The more we are jealous, the greater the feeling of possession. To possess something makes us happy; to call something, even a dog, exclusively our own makes us feel warm and comfortable. To be exclusive in our possession gives us assurance and certainty to ourselves. To own something makes us important; it is this importance we cling to.

यह सोचना की मैं किसी का स्वामी हूँ, हमें महत्त्वपूर्ण होने का एहसास देता है


ईर्ष्या किसी पुरुष या किसी स्त्री को अपने स्वामित्व में बनाये रखने का एक ढंग है | हम जितने अधिक ईर्ष्यालु होंगे, हमारा स्वामित्वभाव उतना ही प्रबल होगा | अपने स्वामित्व में किसी को रखने से हमें ख़ुशी मिलती है, किसी पर, यहाँ तक की कुत्ते पर भी, अपना एकाधिकार जताना हमें भला और सुखद लगता है | उस पर अपना एकमेव स्वामित्व हमें सुनिश्चितता और आत्मविश्वास से भर देता है | किसी का स्वामी होना हमें महत्त्वपूर्ण बना देता है और यह महत्वपूर्ण होना ही है जिससे हम चिपके रहते है |

Read more >>

ठहरे- ठहरे पानी पर शाम के लंबे साये थे


ठहरे- ठहरे पानी पर शाम के लंबे साये थे, और दिन ढलने के साथ नदी खामोश होती जा रही थी | मछलियाँ रह रह कर पानी की सतह से उछल आती थीं तथा बड़े-बड़े पक्षी विशाल वृक्षों पर अपने बसेरों की ओर लौट रहे थे | रजत-नील आकाश में एक भी मेघ नहीं था| सवारियों से भरी एक नाव नदी से गुज़री, वे लोग गा रहे थे और हाथों से ताल देते जा रहे थे; दूर से किसी गाय के रंभाने की आवाज़ आई |

Read more >>    top of page ↑