J. Krishnamurti's Teachings Online in Indian Languages (Hindi, Punjabi, Gujarati, Marathi, Bengali etc.)



Truth; God; Death


Death awaits each one of us, whether we like it or not. You may be a high government official with titles, wealth, position, and a red carpet, but there is this inevitable thing at the end of it. So what do we mean by death?

सत्य, ईश्वर, मृत्यु


हम चाहें या न चाहें, मृत्यु सदैव हमारी प्रतीक्षा में रहती है | आप भले ही अनेक उपाधियों से अलंकृत कोई उच्च सरकारी अधिकारी हों या धन-संपदा, प्रतिष्टा, मान-सम्मान से विभूषित कोई व्यक्ति हों, परंतु सब के अंतिम छोर पर यह अपरिहार्य मृत्यु उपस्थित रहती है | तो, मृत्यु से हमारा अभिप्राय क्या है?

Read more >>

पहले-पहल क्या है?


प्रश्न: क्या बिना मनुष्य से प्रेम किए कोई सत्य से प्रेम कर सकता है? बिना सत्य से प्रेम किए क्या कोई मनुष्य से प्रेम कर सकता है? पहले-पहल क्या है?

Read more >>

Meditation Means to Pay Attention


Not to seek any form of psychological security, any form of gratification,
requires investigation, constant watchfulness to see how the mind operates, and surely that is meditation, is it not?

ध्यान का अर्थ है अवधान


किसी भी प्रकार की मनोवैज्ञानिक सुरक्षा की, किसी भी तरह के तुष्टीकरण की चाहना न हो, इसके लिए दरकार होती है मन कैसे काम करता है इसका गहन अवलोकन करने की, सतत सजगता की; और निश्चित ही यही ध्यान है, है न?

Read more >>    top of page ↑

We Want Security


There is the desire for security. And one can understand this desire to be secure when you meet a wild animal, a snake; or you watch when you cross the road. But there is no other form of security. Really,if you look at it, there is no other form. You would like to have security with your wife, children, neighbor, your relations—if you have relations—but you don't have it. You may have your mother, you may have your father, but you are not related, you are completely isolated— we will go into that.

हम सुरक्षा चाहते हैं


हममें सुरक्षण की इच्छा रहती है | आप इस इच्छा को तब समझ सकते हैं जब आपका सामना किसी वन्य पशु या सर्प से हो जाता है या सड़क पार करते हुए जब आप एकदम चौकस हो जाते हैं | परंतु सुरक्षा का कोई अन्य स्वरुप नहीं होता | आप अपनी पत्नी के साथ, बच्चों के साथ संबंधों में -- यदि आपके संबंध है तो -- सुरक्षा पाना चाहते हैं, परंतु आपको वह मिल नहीं पाती | आपके माता या पिता आपके साथ हो सकते हैं परंतु साथ होते हुए भी आप उनके साथ नहीं होते, आप पूरी तरह अकेले होते हैं |

Read more >>    top of page ↑